जयपुर। असहिष्णुता का मुद्दा एक बार फिर गरमा सकता है। इस बार हिन्दी फिल्मों के डायरेक्टर-प्रॉड्यूसर करण जौहर ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के दौरान कहा है कि भारत में मन की बात कहना बहुत मुश्किल है। बकौल करण, आप मन की बात कहना चाहते हैं और अपनी निजी जिंदगी के राज खोलना चाहते हैं तो भारत सबसे मुश्किल देश है। मुझे तो लगता है जैसे हमेशा कोई लीगल नोटिस मेरा पीछा करता रहता है।

किसी को पता नहीं कब उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज हो जाए। उन्होंने खुद को 'एफआईआर किंग' भी करार दिया। साथ ही 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' और 'लोकतंत्र' को देश के दो सबसे बड़े जॉक्स करार दिया। उनके मुताबिक, मैंने 14 साल पहले राष्ट्रगान के अपमान का केस झेला है। हम फ्रीडम ऑफ स्पीच की बात करते हैं, पर अगर मैं एक सेलिब्रिटी होने के नाते अपनी राय रख भी दूं तो एक विवाद खड़ा हो जाता है।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

cctv lucknow

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े

विज्ञापन

khari kasuti