अलवर !   राजस्थान में अलवर जिले के तिजारा तहसील परिसर में फर्जी काश्तकार बनकर एक महिला के करीब चालीस लाख रुपए का भुगतान उठाकर फरार हो जाने का मामला सामने आया है।
पुलिस के अनुसार शाहपुरा थाना क्षेत्र में भगवती के नाम जमीन का 33 लाख 34 हजार का मुआवजा का चैक जारी हुआ था। स्थानीय अधिकारियों ने महिला की आईडी की पहचान भी कर दी। फर्जी महिला ने शाहबाद गांव के बैंक में सरपंच के लेटर पेड के आधार पर अपना खाता खुलवा लिया और भुगतान लेकर फरार हो गई।
इस मामले का करीब चार माह बाद उस समय पर्दाफाश हुआ जब श्रीमती भगवती अपना चैक लेने आई। यह मुआवजा राशि दिल्ली-मुम्बई कॉरीडोर रेलवे का है। इस मामले में तहसीलदार नन्दकिशोर शर्मा ने तिजारा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। तहसीलदार द्वारा थाने में प्रस्तुत की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि गत 29 जुलाई को 3334039 रुपये का चैक नम्बर 809033 भगवती , 151159 रुपये का चैक नम्बर 977225 खचेडू एवं 3,30,206 रुपये का चैक नम्बर 809040 खचेडू अहीर के नाम से बनाये गये थे।
ये चैक तिजारा तहसील के ग्राम शाहपुर की जमीनों के मुआवजे के रूप में जारी किये गये थे। रिपोर्ट में लिखा है कि इन तीनों चैकों का भुगतान असल खातेदारों को न होकर अन्य व्यक्तियों द्वारा उठा लिया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन सभी चैकों का गत 21 दिसम्बर को भुगतान लेने के लिये जब भगवती एवं उसके परिजन आये तो मामले का पता लगा

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

khari kasuti

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े

विज्ञापन

hindi e news