उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ, कानपुर, इटावा समेत राज्य विधानसभा के 69 क्षेत्रों में तीसरे चरण का चुनाव प्रचार आज शाम थम जाएगा। तीसरे चरण के लिए 12 जिलों की 69 विधानसभा सीटों के लिए मतदान आगामी 19 फरवरी को होना है। इसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के गृह जिला इटावा, प्रदेश की राजधानी लखनऊ तथा उद्योग नगरी कानपुर शामिल है। सभी दलों का चुनाव प्रचार चरम पर है। राजनीतिक दल वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। इन क्षेत्रों में चुनाव प्रचार का शोर आज शाम थम जाएगा। इस चरण में सपा का ‘लिटमस टेस्ट’ मुलायम सिंह यादव के गृह जिला इटावा में होगा। इसमें जसवंतनगर सीट से सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री शिवपाल यादव चुनाव लड़ रहे है। चुनाव में कानून व्यवस्था और विकास मुख्य मुद्दा बना हुआ है।

राजनीतिक दल उठा रहे स्थानीय मुद्दे
कानून व्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) जोरदार ढंग से प्रचार के दौरान उठाकर समाजवादी पार्टी(सपा) को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश कर रहे है। राजनीतिक दल स्थानीय मुद्दे भी उठा रहे है। तीसरे चरण का चुनाव सपा के लिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है। वर्ष 2012 के चुनाव में सपा ने 69 में से 55 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि बसपा के खाते में 06, भाजपा और कांग्रेस को मात्र दो-दो सीटें जीतकर संतोष कराना पड़ा। एक सीट निर्दलीय के खाते में गई थी। प्रदेश के पांच जिलों इटावा, औरैया, बाराबंकी, मैनपुरी और कन्नौज की 19 सीटों पर सपा नही चाहेगी कि कोई अन्य दल अपना खाता खोल पाए। ये क्षेत्र सपा के गढ माने जाते है। लेकिन मुलायम सिंह यादव और शिवपाल सिंह यादव द्वारा चुनाव में नकारात्कर रूख अपनाने से इस सीटों पर जीत हासिल करना सपा के लिए एक चुनौती बना है।

सपा,कांग्रेस,भाजपा और बसपा अध्यक्ष कर रहे जनसभाएं
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सपा के गढ़ कन्नौज, हरदोई, बाराबंकी में चुनावी रैली को संबोधित किया। दोनों सुरक्षित सीट है। इसके अलावा अन्य कई केन्द्रीय नेता उत्तर प्रदेश में डेरा डाले है और लगातार सभाएं कर रहे है। गृह मंत्री और लखनऊ सीट से सांसद राजनाथ सिंह 6 चुनावी रैलियों को संबोधित कर चुके है। बसपा अध्यक्ष मायावती, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश लगातार जनसभाएं कर रहे। मायावती और गांधी हर रोज लगातार दो सभाओं को संबोधित कर रहे हैं। वहीं अखिलेश यादव 6 से 8 सभाएं कर रहे है। यादव की सांसद पत्नी भी लगातार प्रचार में जुटी है। इस चरण में भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी ने चुनाव प्रचार में हिस्सा नही लिया। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने भाई शिवपाल सिंह यादव के पक्ष में जसवंतनगर क्षेत्र तथा छोटी बहू अर्पणा यादव के लिए लखनऊ कैंट क्षेत्र में चुनाव प्रचार किया।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

khari kasuti

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े

विज्ञापन

khari kasuti