img
विजय दशमी: सुख-समृद्धि के लिए आवश्य करें

October 10, 2016, 02:17 PM

सदाचार की दुराचार पर विजय का प्रतीक विजय दशमी पर्व आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है, हमारे धर्मग्रंथों में यह दिन सर्वकार्य सिद्धिदायक है। इससे नौ दिन पूर्व शारदीय नवरात्रों में मां भगवती जगदम्बा का पूजन व आह्वान किया जाता है।


img
पहले से लेकर नौवें नवरात्रे तक देवी को लगाएं खास भोग

October 1, 2016, 11:16 AM

पहले से लेकर नौवें नवरात्रे तक देवी को लगाएं खास भोग


img
पहले से लेकर नौवें नवरात्रे तक देवी को लगाएं खास भोग

October 1, 2016, 11:01 AM

पहले से लेकर नौवें नवरात्रे तक देवी को लगाएं खास भोग


img
सैलरी काे लेकर केजरीवाल-माेदी सरकार में फिर ठनी

April 8, 2016, 12:27 PM

आम आदमी पार्टी सरकार विधायकों के वेतन वृद्धि के विधेयक को अब सिस्टम से केंद्र सरकार की मंजूरी लेने के बाद दोबारा विधानसभा में पास करेगी। केंद्र सरकार से विधेयक वापस मिलने के बाद दिल्ली कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को दाेबारा मंजूरी दी है। जो


img
जानें क्यों मनाए जाते हैं नवरात्र

April 8, 2016, 12:15 PM

नवरात्रि हिंदुओं का महत्वपूर्ण त्योहार है, जिसे लोग बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। संस्कृत के शब्द नव का अर्थ नौ और रात्रि का मतलब रात यानि नौ रातें। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान,देवी दुर्गा के नौ रूपों (शैलपुत्री,ब्रह्मचारिणी,चंद्रघंटा कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी,


img
वरात्र: पहले दिन करें अनंत शक्तियों की देवी मां शैलपुत्री का पूजन

April 7, 2016, 12:15 PM

चैत्र नवरात्रों के आरम्भ होने पर चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के दिन कलश स्थापना के साथ ही मां दुर्गा की पूजा शुरू की जाती है। पहले दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप शैलपुत्री की पूजा होती है। पर्वतराज हिमालय के यहां पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा था। भगवती का वाहन वृषभ, द


img
मौत का रहस्य

March 29, 2016, 10:37 PM

एक दिन श्रीवास पंडित के इकलौते पुत्र की मृत्यु हो गई । उस समय श्रीवास पंडित के घर में श्रीचैतन्य महाप्रभु अपने भक्तों के साथ श्रीहरिनाम संकीर्तन कर रहे थे।


img
क्यों मनाई जाती है होली जानें

March 23, 2016, 01:39 PM

प्रह्लाद और होलिका का प्रसंग तो लगभग सभी लोग जानते हैं। माना जाता है कि होली पर्व का प्रारंभ प्रह्लाद और होलिका से जुड़ा है। दोनों की कथा विष्णु पुराण में उल्लिखित है। हिरण्यकश्यप ने तपस्या कर वरदान प्राप्त कर लिया। अब वह न तो पृथ्वी पर मर स


img
शनिदेव किसके डर से बन गए थे स्त्री

March 13, 2016, 05:35 PM

कहा जाता है हनुमान भक्तों पर शनिदेव का कभी प्रकोप नहीं होता। माना जाता है कि सारंगपुर का कष्टभंजन हनुमान मंदिर बहुत चमत्कारी है और यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। यदि कुंडली में शनि दोष हो तो कष्टभंजन हनुमान के दर्शन और पूजा-अर्चना करने मात्र से सभी दोष खत्म


img
शिव के इस भक्त की कभी मृत्यु नहीं हो सकती

March 7, 2016, 06:46 PM

सनातन धर्म में भगवान शंकर को देवों के देव महादेव कहकर संबोधित किया जाता है। वेदों के अनुसार भगवान शंकर को निर्गुण निराकार रूप में लिंग के रूप में पूजा जाता है। अध्यात्मिक रूप से मूलतः शिव ही एक मात्र धत घट के वासी परमात्मा परमेश्वर हैं। पुराणोक्त दृष्टि के अनुसार पृथवी लोक पर शक्तिपुंज स्व


img
प्रलय आने पर भी यह स्थान बना रहेगा

March 1, 2016, 09:37 AM

1585 ई. में बनारस से आए मशहूर व्‍यापारी टोडरमल ने इस मंदिर का निर्माण करवाया। 1669 ई. में जब औरंगजेब का शासन काल चल रहा था तो उसने इस मंदिर को तोड़वा दिया और मंदिर के ध्वंसावशेष पर मस्जिद का निर्माण करवाया जिसका नाम ज्ञान वापी मस्जिद रखा। आज भी यह मस्जिद विश्वनाथ मंदिर से एकदम सटी हुई है


img
भगवान कृष्ण की सहायता के लिए आए हनुमान जी ने दिखाया चमत्कार

February 22, 2016, 01:22 PM

सुदर्शन चक्र को स्वयं की शक्ति पर अभिमान हो गया था और भगवान श्री कृष्ण ने उनके अभिमान को दूर करने के लिए श्री हनुमान जी की सहायता ली थी। सुदर्शन चक्र को यह अभिमान हो गया था कि उसने इंद्र के वज्र को निष्क्रिय किया था। वह लोकालोक के अंधकार को दूर कर सकता है। भगवान श्री कृष्ण अतंत उसकी ही सहा


img
हरिकथा सुनने से पहले ध्यान रखें ये बात तभी पुण्य के भागी बनेंगे आप

February 14, 2016, 01:31 PM

हरिकथा सुनने से पहले ध्यान रखें ये बात तभी पुण्य के भागी बनेंगे आप


img
मृत्यु पर विजय प्राप्त करने वाले भीष्म ने किया श्रीकृष्ण की प्रतिज्ञा को भंग

February 9, 2016, 03:37 PM

महात्मा भीष्म आदर्श पितृभक्त, आदर्श सत्यप्रतिज्ञ, शास्त्रों के महान ज्ञाता तथा परम भगवद् भक्त थे। इनके पिता भारतवर्ष के चक्रवर्ती सम्राट महाराज शान्तनु तथा माता भगवती गंगा थीं। महर्षि वसिष्ठ के शाप से ‘द्यौ’ नामक अष्टम वसु ही भीष्म के रूप में इस धरा धाम पर अवतीर्ण हुए थे।


विज्ञापन

khari kasuti

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े

विज्ञापन

hindi e news